Computer ke prakar | Types of computer

दोस्तों ! आज के ज़माने में कंप्यूटर हमारी ऐसी ज़रुरत बन गया है जिसके बिना हमारे बहुत से काम रुक जाते हैं | सरकारी क्षेत्र हो या कोई निजी संस्था हर जगह आपने इसका use देखा है | computer एक ऐसा device जो आपके कामों को आसान बनाने में आपकी मदद करता है |

इसमें कोई संदेह नही है कि computer बहुत सी सटीक और सही निष्कर्ष देता है | एक सेकंड के कुछ अंश के समय में ये बड़ी से calculations को हल करके देता है | इसमें भारी मात्रा में data को store किया जा सकता है |

बदलते समय के साथ जैसे-जैसे लोगों की ज़रूरतें बदली वैसे-वैसे computer ke prakar और स्वरूप भी बदलता रहा | जो कंप्यूटर पहले काफी भारी भरकम हुआ करता था | वही computer पहले table पर और अब मोबाइल के रूप में लोगों के हाथों में आ गया है |

कंप्यूटर क्या है और इसकी मुख्य विशेषताएं क्या हैं?

ऐसा नही है कि मोबाइल के आने से कंप्यूटर की वेल्यू या डिमांड कम हो गयी हो, जी नही ! बिल्कुल नही | हाँ mobile ने हल्के कामों को करने जैसे-Bill Deposit, Ticket booking, Fast food Order, Online shopping, Money transfer, Voice calling, Video calling, text mail sending, images sharing आदि बहुत सारे कार्यों को करना बहुत आसान कर दिया |

Advertisement

वहीं दूसरी और कुछ complex works जैसे – Software designing, Web developing, Highly visual Graphics, Animation, Space research, Mobile configure, Exploring new technology जैसे कामों के लिए भी कंप्यूटर का ही प्रयोग किया जाता है |

Computer kya hai | कंप्यूटर क्या है

Computer ऐसा device है जिसको आप जितना सीखते हैं उससे और ज्यादा सीखने की इच्छा बढती जाती है | हर तरह के क्षेत्र के लिए आज मार्किट में course मौजूद हैं | Desktop से लेकर Laptop तक | आज से समय में हम पूरी तरह से computer से घिर चुके हैं | इंटरनेट के आ जाने से इसकी गुणवत्ता और ज्यादा बढ़ चुकी है | इंटरनेट ने सभी department को एक दूसरे से जोड़ दिया है |

Computer किसी एक device का नाम नही है बल्कि यह कई device का समूह है जैसे-

  • Keyboard- यह computer में typing करने और command देने के काम आता है |
  • Mouse– इससे computer के विभिन्न हिस्से में click करके command दिया जाता है |
  • Printer- यह computer में मौजूद documents और image को प्रिंट करने का काम करता है |
  • Central processing unit- इसे short में CPU भी कहते हैं | computer में सभी task की processing इसी device में होती है |
  • Monitor– यह computer मे होने वाली गतिविधियों को display करता है |

ज़रुरत के हिसाब से हर जगह computer ने जगह बना ली है जैसे टिकट बुक कराना हो तो कंप्यूटर से हो जाता है, कोई form भरना हो तो वो भी कंप्यूटर पर भर दिया जाता है, Flight बुक करनी हो या रेलवे टिकट सब ऑनलाइन कंप्यूटर पे हो जाता है |

कहीं घूमने का मन हो रहा हो तो इंटरनेट पर सर्च करो और आपको लाखों result मिल जाते हैं | कुछ खाने का मन हुआ तो pizza burger आर्डर कर सकते हैं | बैठे-बैठे बोर हो रहे हो तो movie देखकर अपना मनोरंजन कर सकते है | आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे के कैसे-कैसे कंप्यूटर का समय के साथ स्वरूप बदलता रहा |

कंप्यूटर के प्रकार | types of Computer | Classification of computer

computer ke prakar-chart

Computer का वर्गीकरण हम तीन श्रेणी में कर सकते हैं |

  • Hardware के आधार पर
  • Purpose के आधार पर
  • आकार व क्षमता के आधार पर

Hardware के आधार पर computer ke prakar

Analog Computer

इस प्रकार के कंप्यूटर का उपयोग भौतिक मात्राओं का मापन में किया जाता है जैसे -Pressure (दाब), Temperature (तापमान), Length (लम्बाई), Height (ऊँचाई) आदि | यह Graph के रूप में result दिखाता है साथ ही इनकी speed(गति) भी बहुत slow (धीमी) होती है |

इनमें केवल Numerical input values ( 1,2,3 -,+,/,) के द्वारा insert किया जाता है | जैसे- thermometer एक Analog कंप्यूटर है और ये सिर्फ temperature मापने के आता है |

Analog कंप्यूटर के प्रकार :

Water Integer, Deltar, Mechanical computer

Digital Computer

computer ke prakar-Digital comp

इस प्रकार के computer का बड़ी संख्याओं के गणना करने में किया जाता है जो alphanumeric होती हैं जैसे -1,2,3-a,b,c-,+,*, आदि | इसकी speed Analog कंप्यूटर से बहुत ज्यादा होती है |

यह Graphic और text के रूप में result दिखाने में सक्षम है | इसका उपयोग आजकल बहुत से field में भी किया जाता है जैसे Engineering | ये binary digit 0 ,1 के आधार पर कार्य करते हैं |

डिजिटल कंप्यूटर के प्रकार :

IBM PC, Apple

Hybrid Computer

Types of computer कि श्रेणी में ये दोनों ऊपर बताये गए computers का combination है यानि दोनों का मिला जुला रूप | इनकी कीमत बहुत ज्यादा नही होती और ये मुख्य रूप से Hospital में Heart beep मापने के लिए, Blood Pressure आदि मापने के लिए use किये जाते हैं |

Petrol filling station पर use होने वाला यंत्र भी हाइब्रिड computer ही है क्योंकि यह Petrol का प्रवाह और कीमत दोनों एक साथ बताता है |

हाइब्रिड कंप्यूटर के प्रकार :

Hydac 2400, HP envy Hybrid computer |

Purpose के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार

For General Purpose :

इस तरह के कंप्यूटर का प्रयोग सबसे ज्यादा किया अपने आस पास जो कंप्यूटर, लैपटॉप आप देख रहे हैं वो सब general purpose computer ही हैं |

इनका पत्र लेखन, Database तैयार करने, दुकानों में, कॉलेज, School में,game खेलने के लिए, Movie देखने के लिए, Songs सुनने के लिए, पुलिस station में complaint दर्ज कराने के लिए, आदि कामों में किया जाता है |

इनकी स्पीड बहुत तेज़ होती है और इनमें data सुरक्षित रखने की क्षमता भी बहुत होती है | इसके different types of computer market में मौजूद हैं |

Computer कितने प्रकार के होते हैं? सुपर कंप्यूटर क्या है?

For Special Purpose :

ये computer special work के लिए बनाये जाते हैं और इनका CPU उसके अनुरूप ही कार्य करता है | space Science (अंतरिक्ष विज्ञान) मौसम विज्ञान, अनुसंधान एवं शोध, चिकित्सा आदि कार्यों में किया जाता है |

special purpose होने के कारण ये काफी महंगे होते हैं | आम कार्यों में इनका उपयोग नही किया जाता |इनमें एक से ज्यादा CPU का इस्तेमाल किया जाता है जिसमे कारण ये बहुत तेज़ गति से कार्य करते हैं |

आकार क्षमता के आधार कंप्यूटर के प्रकार

Micro Computer

computer ke prakar-Microcomputer

Micro computer को सबसे पहले 1970 में बनाया गया जो single user होता है यानि के इसे एक व्यक्ति ही use कर सकता है |यह वजन में हल्का और सस्ता होता है | मुख्य रूप से यह घरों में, छोटे उद्योगों में, किया जाता है यह इतना छोटा होता है जिसको आप simple एक Bag में रखकर कहीं भी ले जाया जा सकता है |

ये सीमित क्षमता वाले computer होते हैं | इनको personnel use के लिए प्रयोग में लाया जाता है इसलिए इनको personnel computer कहते हैं | सबसे पहले microprocessor इस कंप्यूटर में use किया गया जिसमे कारण इसे micro computer भी कहते हैं |

माइक्रो कंप्यूटर के प्रकार :

Desktop computer, Laptops, palmtop, Notebook PC, Tablet PC आदि |

Workstation Computer

Workstation Computer का उपयोग Engineering application जैसे AUTO-CAD, software development आदि में किया जाता है | इसके लिए high resolution वाली display और high speed RAM का use किया जाता है | ये size में बड़े होते हैं और काफी महंगे भी होते हैं | इनकी storage capacity भी high होती है |

Secondary memory kya hai? यह primary memory से कैसे अलग है?

वर्कस्टेशन कंप्यूटर के प्रकार :

Unix 8, COMPAQ,CDC CYBER

Mainframe Computer

computer ke prakar-Mainframe computer

Types of computer की series में इनका प्रयोग समय के साथ साथ बढ़ता जा रहा है क्योंकि ये बड़ी मात्रा में online storage, और web service provide कराते हैं | ये बहुत बड़ी मात्रा में database store कर सकते है और 24×7 चालू रहते हैं |

हम इंटरनेट जो भी सर्च करते हैं वो सब हमें mainframe कंप्यूटर server से ही प्राप्त होता है | ये server base service provide कराते हैं जैसे web hosting | इनकी स्पीड बहुत तेज़ होती है और ये supercomputer की तरह ही काम करते हैं |

Mouse क्या है? माउस कितने प्रकार के होते हैं?

मेनफ़्रेम कंप्यूटर के प्रकार :

IMB SUMMIT, NUDT TIANHE-2

Supercomputer

computer ke prakar-Super Computer

आइये types of computer की series में अब बात करते हैं supercomputer की जो बाकी सभी computers में सबसे तेज़ होता है क्योंकि इनके एक से ज्यादा processor होते हैं जो इसको गति प्रदान करते हैं | यह बड़ी से बड़ी Problem को चुटकियों में हल करने की क्षमता रखता है |

यह computers में सबसे महँगा होता है और size में बड़ा | इसका उपयोग Space research,weather forecasting, engineering problems और बड़ी से बड़ी complex science को solve करने में किया जाता है |

दुनिया का सबसे पहला supercomputer सन 1964 में Control Data Corporation company ने बनाया था जिसका नाम था CDC-6600 | इसको बनाने का श्रेय Seymour Cray (1925-1966) नाम के आदमी को जाता है | इनको “Father of Supercomputer” कहना गलत नही होगा |

उसके बाद दूसरा Supercomputer India द्वारा सन 1991 में बनाया गया जिसका नाम है – PARAM-8000 | इसको और modify किया गया और सन 1998 में दूसरा Supercomputer बनाया जिसका नाम है- PARAM-10000 | कुछ और Supercomputer भी बनाए गए हैं जैसे :-

सुपर कंप्यूटर के प्रकार

IBM`s SEQUOIA (AMERICA in 2000)

PARAM-8000

Fujitsu A64FX (Japan in 2011)

Printer क्या है? प्रिंटर कितने प्रकार के होते हैं?

Conclusion (निष्कर्ष)

वैसे तो computer English language में popular है लेकिन अब आज के समय में computer के features को किसी भी भाषा में बदलकर प्रयोग किया जा सकता है | बहुत सारे ऐसे software भी मौजूद हैं जो English को हिंदी में convert कर देते हैं |

Computer ने मानव जीवन को नए आयाम दिए हैं | रोबोट का आविष्कार भी supercomputer की ही देन है के supercomputer के द्वारा कोशिश की जा रही है की भविष्य में देखा जा सके और बाढ़ ,भूकंप, आदि प्राकृतिक आपदाओं से मानव जाति को बचाया जा सके |

आपको हमारा ये article types of computer कैसा लगा | हमें comment करके ज़रूर बताएं | अपने सुझाव दें या आप किसी और विषय पर हिंदी में article चाहते हैं तो बताएं | हम ऐसे ही technology की जानकारी हिंदी में आप तक पहुँचाने का प्रयास करते रहेंगे | धन्यवाद !!

Advertisement

To Start Earning, Keep learning

We’d love to keep you updated with our latest post and offers 😎

Share with love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top