Computer kya hai | what is computer in Hindi

Computer kya hai? इंडिया में पहला कंप्यूटर कब आया और कहाँ स्थापित हुआ? Computer का नाम आते ही एक ऐसी मशीन की तस्वीर सामने आती है जो बिलकुल टीवी कि तरह दिखाई देता है | लेकिन यह कई लोगों का काम आसानी से कर देता है वो भी बहुत कम समय में | बड़ी से बड़ी संख्याओं की गणना कर देता है वो भी चंद seconds में | Computer आज के समय में इतना ज़रूरी हो गया है की इसको हर कोई सीखना चाहता है और सीखना भी चाहिए क्यूकि समय के साथ भी तो चलना है |

computer को हर जगह हर भाषा में computer ही कहते है | हर देश, हर राज्य में computer को computer ही कहते है | लेकिन क्या आप जानते है कि computer को हिंदी में क्या कहते हैं? क्या आप जानना चाहेंगे? तो बने रहिए हमारे साथ और पढ़ते रहिए itechshala-learning never ends.

आज सभी Field में Computer use हो रहा है | आपने बहुत सी जगहों पर computer का इस्तेमाल होते हुए देखा होगा, चाहे वो Industry हो, College हो या School हो, Private company, Office, Shopping Mall हो, सभी जगह Computer का use हो रहा है | ज्यादातर कामों को Computer system से जोड़कर उसे Productive और Profitable बनाया जा रहा है | आज ऐसा कोई क्षेत्र नही बचा है जहाँ पर computer का इस्तेमाल नही होता हो | चलिए आगे बढ़ते है और जानते है कि computer kya hai |

Advertisement

Computer kya hai

Computer kya hai? कंप्यूटर एक ऐसा Electronic device है जो user के द्वारा दिए Instruction का पालन करता है उसकी processing करके result देता है | इसमें data को Store करने recover करने और Process करने की क्षमता होती है | कंप्यूटर किसी एक device का नाम नही है बल्कि यह बहुत से input devices और output devices के समूह का नाम है | साथ ही इसमें कुछ ऐसे devices भी होते हैं जो input और output दोनों devices का काम अकेले ही करते हैं | इन्हें common devices कहते हैं |

Computer को हिंदी में क्या कहते हैं

आम भाषा में कंप्यूटर को computer ही कहते हैं | कई बार ऐसा होता है कि आप कोई interview देने जा रहे हों और interview में पहला ही सवाल से पूछ लिया जाता है कि computer को हिंदी में क्या कहते है और आप जवाब ना दे पायें तो पूरा interview ख़राब हो जाता है | आपका impression पहले सवाल में ही ख़राब हो जाता है | तो जान लीजिए computer को हिंदी में ‘संगणक’ कहते है |

संगणक यानि संख्याओं गणना करने वाला | यह Arithmetic और Logical दोनों तरह की गणना करने में सक्षम है | यह कई सारे काम एक साथ बड़ी तेज़ी से कर लेता है, कठिन से कठिन गणनाएं आराम से कर देता हैं | यह हर तरह की गणना बहुत ही कम समय में कर लेता है | बड़ी- बड़ी संख्याओं की गणना एक साथ कर लेता है चाहे उनकी संख्या कितनी भी हो |

अगर computer को इसके नाम से परिभाषित करें तो इसका नाम बहुत ही बड़ा हो जाता है | जिसे याद रख पाना थोडा मुश्किल होता है | इसलिए इसका हिंदी में छोटा सा नाम संगणक है | नीचे computer को विस्तार से परिभाषित किया जा रहा है जिसे कंप्यूटर की full form भी कहते हैं | चलिए जानते हैं कि computer कि full form क्या है? इंडिया में पहला कंप्यूटर कब और कहाँ आया था?

Computer full form kya hai

कंप्यूटर का विस्तार इतना बड़ा है कि इसे कुछ शब्दों में परिभाषित करना आसान नही है दोस्तों | वैसे तो Computer की कोई particular full form नही है, फिर भी यहाँ पर जो computer फुल form बताई जा रही है वह अक्सर use होती है :

  • C – Commonly
  • O – Operated
  • M – Machine
  • P – Particularly
  • U – United use under
  • T – Technical
  • E – Educational
  • R – Research

Computer का प्रयोग हर क्षेत्र में अलग अलग तरीके से किया जाता है जैसे ऑफ़िस डॉक्यूमेंटेशन के लिए, Most designing companies में designing के लिए, Photo industry में photo printing के लिए, Film Industry me Video Editing के लिए, और बहुत सारे ऐसे काम हैं जिनमे Computer का use किया जाता है|

कंप्यूटर में Software Install कर लेने से इसकी गुणवत्ता और ज्यादा बढ़ जाती है, आप अपने ज़रुरत के हिसाब से सॉफ़्टवेयर, और operating system डाल सकते हैं और अपने particular task को पूरा कर सकते हैं |

कंप्यूटर की अपनी एक भाषा होती है जिसे machine language कहते हैं जो 0 और 1 में decode होती है, जिसे समझ पाना आम आदमी के लिए बहुत कठिन होता है | इसके लिए एक compiler use किया जाता है जो machine language को programming language में convert कर देता है और programming language को मशीन language में |

Computer का इतिहास | History of computer

अब तक हमने जाना कि computer kya hai | चलिए दोस्तों ! अब जानते हैं कि Computer का आविष्कार किसने किया? computer कि history क्या है ? वैसे तो इसमें हमेशा ही मतभेद रहता है कि पहला कंप्यूटर किसने बनाया? वैसे कुछ लोगों का मानना है कि पहला computer “ABACUS” था जिसे 1622 में विलियम्स ओउथेरेड (William Outhered) द्वारा बनाया गया था | आइए कुछ आंकड़ों पर नज़र डालते हैं-

सबसे पहले जो कंप्यूटर बनाया गया उसे नाम दिया गया “Mechanical machine” जिसे ब्लेज़ पास्कल (Blaze Pascal) द्वारा सन 1642 में बनाया गया | यह केवल संख्याओं को जोड़ (adding) सकता था|

उसके कुछ वर्षों के बाद “Calculator for Multiplication”को बैरन ग़ोत्त्फ़्रेइद (Baron Gottfried), जर्मनी,द्वारा बनाया गया जो केवल गुना (Multiplication) कर सकता था |

Keyboard machine को 1880 के आस पासबनाया गया | जो आज भी आधुनिक युग में use हो रहा है |

1970 की सदी में हरमन होल्ल्रिथ (Herman Hollerith) ने Punched card का सिद्धांत पेश किया |

19वीं सदी में चार्ल्स बबेज (Charles Babbage) ने,जो कि Cambridge University के Professor थे, Digital Computer का आविष्कार किया |

यह कंप्यूटर Adding (+), Subtracting (-), Multiplication (x) और Division ( / ) कर सकता था | इसके लिए इनको ‘Father of Computer भी कहा जाता है |

इस काल में कई वर्षो के शोध के बाद चार्ल्स बबेज (Charles Babbage) ने Mathematical and Statistical tables को अपनी टीम के साथ तैयार कियाBut इसमें कुछ कमियाँ रही जिसको दूर करने के लिए चार्ल्स जुटे रहे |

1822 में उन्होंने “Difference Engine” का आविष्कार किया जो data table को अच्छी तरह से दर्शा सकता था |

इसके बाद चार्ल्स इसमें और अनुसंधान करते रहे और 1842 में “Analytic Engine” को बनाया | इसकी गणना का result पहले से बहुत बेहतरीन था और इसकी स्पीड “60 additions per minute” थी |

Computer का प्रयोग किस- किस क्षेत्र में किया जाता है?

Computer में कितने प्रकार का data होता है

कंप्यूटर में 3 टाइप का data use होता है:

  • TEXT – इसमें सभी तरह के Alphabet, Symbols, और Numerical शामिल हैं |
  • GRAPHIC – इसमें सभी तरह की Images, Photo आदि आती है |
  • VIDEO – इसके अंतर्गत सभी तरह की videos और gif images आती हैं |

Computer की विशेषतायें [15 Qualities]

दोस्तों! Computer को इस तरह से design किया गया है कि हर जगह काम कर सके और हर तरह का काम कर सके | यूँ तो computer की बहुत सारी विशेषतायें है जिनको बता पाना थोड़ा मुश्किल है लेकिन मैं आपको कंप्यूटर की मुख्य 15 विशेषतायें बताने जा रहा हूँ |

ACCURACY-खरापन

कंप्यूटर ऐसा device है जिसको दिया हुआ instruction अगर गलत नही है तो result गलत आने की सम्भावना कम होती है | यानी कि result 100%  खरा होता है मतलब सही होता है | इसके दिया हुए परिणामों में ग़लतियाँ नही होती हैं | इसके विपरीत अगर दिए गए instruction सही नही है तो ये पहले ही error दिखा देता है |

AUTOMATIC-स्वचालित

कंप्यूटर एक संचालित machine है जिसको एक बार Instruction दे दिया जाता है फिर ये तब तक नही रुकता जब तक दिया हुआ task पूरा नही हो जाता|अगर आपने लगातार कई task दिए हैं तब ये सभी को पूरा करके ही रुकता है |

COMMUNICATION-सम्प्रेषण

computer kya hai

Computer की मदद से wired or non wired connection के द्वारा दूर बैठे व्यक्ति से बात की जा सकती है, संदेश भेजा जा सकता है जिसके text और वीडियो के software का use किया जाता है | आप computer को अपनी आवाज़ के द्वारा भी इंस्ट्रक्शन दे सकते हैं | ये सब आज इंटरनेट की मदद से संभव हुआ है |

DILIGENCE-मेहनती

कंप्यूटर पूरी तरह से परिश्रमी होता है, ये कभी थकता नही है और लगातार कई दिनों तक काम काम कर सकता है-because this a electronic machine | आपने चाहे कितने भी task दिए हों computer उन सभी task को पूरा करके idle mode में आ जाता है | आप computer से कितना भी काम करा सकते हैं |

LOW COST AND SMALL SIZE- छोटा और सस्ता

आजकल कंप्यूटर पहले के मुकाबले काफी सस्ते और छोटे हो गए हैं | पहले समय में ये एक कमरे जितने बड़े हुए करने थे, अब ये थोड़ी सी जगह में आसानी से फिट हो जाते हैं | कोई भी अपनी company में ऑफ़िस में यहाँ तक के अपने घर में भी आसानी से रख सकता है |

NO FEELING-कोई भावना नही

कंप्यूटर की कोई feeling नही होती, ये कुछ भी महसूस नही कर सकता | न गर्मी, न सर्दी और लगातार काम करता रहता है | आप किसी सही काम करने पर भी इसको शाबाशी नही दे सकते और न ही डांट सकते हैं और न ही इसमें feeling या Emotion, स्वाद, ज्ञान, अनुभव होते है |

NO IQ-बुद्धिहीन

कंप्यूटर का अपना कोई दिमाग नही होता | ये सिर्फ दिए हुए instruction (निर्देशों ) का ही पालन करता है कंप्यूटर अपना कोई decision नहीं ले सकता | अगर आप instruction या command नही देते हैं तो यह कुछ नही करेगा |

PERMANENT HIGH STORAGE CAPACITY-उच्च स्थाई भण्डारण क्षमता

इसके भीतर permanent data store करने की क्षमता होती है वो भी बड़ी मात्रा में | आपने MB, GB, TB, computer storage सुने होंगे जिनमे बहुत बड़ी संख्या में data store किया जा सकता है | आज के समय में तो cloud storage भी आ गए हैं जिनका उपयोग आप अपने data को store करने के लिए कर सकते हैं जैसे-Google drive, Apple icloud, Drop box आदि | cloud storage का उपयोग आप data को store करने कर सकते हैं और किसी भी computer से access कर सकते हैं |

PORTABLE- ले जाने योग्य

computer kya hai

साइज़ छोटा होने की वजह से computer को कहीं भी लाना ले जाना आसान हो गया जिससे छोटी जगहों में भी इसका use होना शुरू हो गया| ट्रांसपोर्टेशन cost भी कम होती चली गयी | जिससे computer को लाने और ले जाने का ख़र्च बच गया |

POWER OF REMEMBERING-उच्च स्मरणीय

कंप्यूटर की याद रखने की क्षमता बहुत ही पेज होती है | इसमें save किया हुआ dataया file आप कभी भी हासिल कर सकते हैं |वैसे तो computer की अपनी कोई याददाश्त नही होती लेकिन इसका जो Secondary storage है ये वहां पर data save करता है और हमें वही से data देता है |

REDUCE HUMAN EFFORT-न्यून मानव प्रयास

जहाँ किसी काम को करने में कई दिन लग जाते थे और बहुत सारे लोगों की आवश्यकता और मेहनत लगनी पड़ती थी वहीँ कंप्यूटर से आने काम आसानी से और कम समय में होना शुरू हो गए |

REDUCE PAPER WORK-कम कागज़ी कार्यवाही

जिन दस्तावेजो को रखने की लिए बहुत सारा पेपर वर्क करना पड़ता था उनको अब कंप्यूटर के secondary storage में सुरक्षित रखा जा सकता है इससे बहुत बड़ी मात्रा में कागज़ की बचत होती है |

RELIABILITY-भरोसेमंद

computer kya hai

कंप्यूटर से मिले आंकड़े पूरी तरह से reliable होते हैं because इसके algorithm को इस तरह से design किया गया है कि ये wrong input पर स्वतः ही error दिखने लगता है |

SPEED-गति

Speed के मुकाबले कंप्यूटर जैसी कोई मशीन नही है | यह कई बड़े task एक साथ कम समय में complete कर सकता है | जिसको करने के लिए पहले काफी वक़्त लगता था | बड़ी बड़ी मशीनों को कंप्यूटर से कनेक्ट करके बड़े बड़े कम आसानी से पूरे कर लिए जाते हैं |

VERSATILITY-बहुमुखी प्रतिभा

कंप्यूटर का सबसे अच्छा गुण तो ये है कि ये एक साथ कई काम पूरे कर सकता है | पहले task में ये एग्जाम का result तैयार कर रह होता है तो दूसरे task में ये बिजली का बिल तैयार कर देता है, तीसरे task में document print कर देता है | काम के साथ-साथ इसमें आप songs सुन सकते हैं | चाहें तो वीडियो भी देख सकते हैं | अपनी आवाज़ record कर सकते हैं | कोई भी इमेज edit कर सकते है और भी बहुत कुछ |

read more:

uses of computer in Hindi complete guide

Conclusion(निष्कर्ष)

कंप्यूटर ने मानव को बहुत सारी सुविधाएँ दी हैं जिनके बल पर मानव ने चाँद पर कदम रखा और उसके बारे में जानकारी जुटाई | बहुत सारी असंभव research को कंप्यूटर की मदद से संभव बनाया जा सका | मंगल गृह पर जाना भी कंप्यूटर की वजह से संभव हो सका और भारत देश एशिया में सबसे पहले स्थान पर पहुँच गया जो एक बहुत बड़ी ऐतिहासिक सफलता रही | चाहे कोई भी क्षेत्र रहा हो कंप्यूटर का योगदान अग्रणी रहा है |

हालाँकि कंप्यूटर को मानव ने ही बनाया है लेकिन machine की ताक़त के साथ मानव और मज़बूत होता चला गया | आगे भी कंप्यूटर की सुविधाओं का उपयोग करते हुए मानव नए ग्रहों का पता लगाएगा और वहां के लोगों के बारे में तथ्य जुटाने में कामयाब रहेगा |

तो दोस्तों ये थी पोस्ट कि computer kya hai? जिसमे हमने computer का आविष्कार किसने किया और computer के मुख्य गुण क्या-क्या हैं | आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी हमें comment करके ज़रूर बताएं | हम आपके सुझावों का सम्मान करते हैं | आप चाहें तो पोस्ट को share भी कर सकते हैं | हम आगे भी इसी तरह की जानकारी आपके लिए लाते रहेंगे | Thanks!!

Advertisement

To Start Earning, Keep learning

We’d love to keep you updated with our latest post and offers 😎

Share with love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top